Sucker Management in Banana

पौधों की संख्या नियंत्रित करने के लिए केले में चूसक का प्रबंधन

पौधों की संख्या नियंत्रित करने के लिए केले में चूसक का प्रबंधन
April 2, 2018 No Comments Blog admin

Sucker Management in Banana

केले की अगली फसल में फसल की उपज का वांछित स्तर बनाए रखने के लिए केले की खेती के पूरी अवधि में मूल पौधे के घनत्व और पौधा रोपण का पैटर्न बरकरार रखना चाहिए। इसके लिए जल्दी से जल्दी गैप को भरना और समय पर चूसक का चुनाव करना बेहद ज़रूरी होता है। चूसक (पौधे की जड़ से उगने वाले नए पौधे की कोंपल) का नियमित और सख्त प्रबंधन करना चाहिए। समय पर चूसक निवारण से मातृ पौधे का विकास और पैदावार अधिकतम होती है। ऐसा नहीं करने पर या इसमें देरी होने से पौधे एक-दुसरे से गुँथ जाते हैं, जिसे पैदावार के लिए अच्छा नहीं कहा जा सकता। चूंकि सभी बढ़ते हुए पौधे (मातृ और चूसक पौधे) पोषक तत्वों, जगह और नमी के लिए आपस में प्रतिस्पर्धा करते हैं, इसलिए भीड़ बढ़ने के कारण उत्पादन कम होता है और गुणवत्ता घट जाती है.

केले के पौधों के चूसक प्रबंधन के कुछ महत्वपूर्ण बिंदु

  1. चुने गए चूसक सामान आकार-प्रकार के होने चाहिए और उनका विकास एक ही दिशा में होना चाहिए।
  2. केले की पौधों के चूसक का चयन ड्रिप लाइन के साथ ही करना चाहिए, आर-पार नहीं।
  3. एक चूसक का चयन करने के बाद उसके आस-पास के बाके चूसकों को हटा देना चाहिए।
  4. केले के पौधे को नुकसान पहुंचाने वाली जड़ों को नष्ट करने के लिए ट्यूब गॉजिंग का प्रयोग करना चाहिए। उस पर मिट्टी का तेल, डीजल या अन्य केमिकल नहीं पटाना चाहिए।
  5. समान आकार और पतले पत्ते (तलवार के आकार के) वाले मजबूत चूसक का चुनाव करना चाहिए।
  6. बड़े पत्ते वाले पौधे का चुनाव नहीं करना चाहिए
  7. केले के पौधों को नुकसान पहुंचाने वाले चूसकों को घुटनों की ऊंचाई तक पहुंचने से पहले ही काट देना चाहिए।
  8. नया चूसक का चुनाव किये बगैर बार-बार चूसक उखाड़ने से बचना चाहिए।
  9. चुनाव करने के बाद हर 4 से 8 हफ्ते के बाद बार-बार चूसक उखाड़ देना चाहिए।
  10. प्रत्येक झुण्ड में पौधे की 3 पीढ़ी उगायें।
About The Author
Mahadhan SMARTEK