ANAR

अनार के नए उगाए गए पेड़ों की देखभाल

अनार के नए उगाए गए पेड़ों की देखभाल
April 2, 2018 No Comments Blog admin

ANAR

अनार झाड़ियों पर उगता है और इसे प्राकृतिक रूप बढ़ने को छोड़ दिया जाए तो यह एक सामान्य पेड़ की शक्ल में विकसित नहीं नहीं होता। इसलिए अनार की अच्छी उपज प्राप्त करने और इसके कुशल प्रबंधन के लिए इसे उचित आकार और ढांचा मुहैया कराना बहुत जरूरी है। अनार का पौधा लगाने के बाद पेड़ के उचित विकास के लिए कम से कम 2 साल तक अच्छी तरह देखभाल करना जरूरी है। उचित देखभाल से जल्द ही छोटे वृक्ष पर भी अनार की उपज होने लगती है। देखभाल से ही अनार का पौधा मजबूत पेड़ में बदलता है, जो बिना टूटे शाखाओं पर लगे अनार का वजन सह सकता है। अनार या तो छोटे पेड़ पर होते हैं या बहुत सारी शाखाओं वाले पेड़ पर झाड़ियों की शक्ल में होते हैं। अनार कुदरती रूप से इसी तरह उगते हैं

बृद्धि के लिए छंटनी : वृक्ष तैयार करने के लिए समय-समय पर अनार के पेड़ की छंटाई करना आवश्यक होता है। अनार के पेड़ के ढांचे को मजबूत बनाने और पेड़ों की अच्छी शाखाओं के लिए स्टॉप एंड गो तकनीक का प्रयोग किया जा सकता है। इस तकनीक में पौधों को 3-4 महीनों की अवधि के लिए स्वच्छंद रूप से बढ़ने दिया जाता है और उसके बाद उस पर 500 से 1500 पीपीएम की अनुपात में पौधे के विकास में अवरोधक लिहोलिन (सीसीसी) छिड़का जाता है। इससे पेड़ को अपना भोजन एकत्र करने में मदद मिलती है। इससे पेड़ का ढांचा भी मजबूत होता है। पर्याप्त मात्रा में भोजन का संग्रह करने के बाद पेड़ के सबसे ऊंचे भाग की छंटाई कर दी जाती है और उसे बगल और किनारों पर बढ़ने दिया जाता है। पेड़ों के विकसित होते समय यह चक्र 3-4 बार अपनाया जा सकता है।

तना/तनों का विकसित होना : इकलौते तने के विकास के लिए पेड़ के शिखर पर मौजूद अनार की कोंपलें सीधी बढ़ती है। पर्याप्त रूप से बढ़ने के बाद 60 से 75 सेंटीमीटर तक काट दिया जाता है। इससे तीन से पांच तने समान रूप से मजबूत पेड़ की शाखाओं में ही विकसित होते हैं। तने के साथ डाली के एंगल से अनार के पेड़ की मजबूती का फैसला होता है। एंगल जितना फैला होगा, पेड़ उतना ही मजबूत होगा। अगर आप अनार के पेड़ को झाडी की शक्ल देना चाहते हैं तो तीन से पांच शाखाओं का चुनाव सबसे मजबूत शाखा के रूप में कीजिए और बाकी शाखाओं को हटा दीजिए।

मुख्य शाखाओं का विकास : चुनी हुई शाखाओं को तेजी से बढ़ने देना चाहिए और फिर उनकी लंबाई को 3/5 तक छोटा कर देना चाहिए 2-3 कलियों वाली पार्श्विक डालियाँ छोड़ देनी चाहिए। पेड के विकास में दखल देने वाले तनों को काट देना चाहिए। हर शाखा पर 2 या 3 टहनियां छोड़ देनी चाहिए।

माध्यमिक और तृतीयक शाखाएं : उत्पादन के लिहाज से अनार की माध्यमिक और तृतीयक शाखाएं बहुत महत्वपूर्ण हैं। पेड़ इसी हिस्से से पेड़ की सक्रिय छतरी बनती है, जो पेड़ के विकास और उत्पादन में मदद करती है। इसलिए, माध्यमिक और तृतीयक शाखाओं को इस तरह से चुना जाता है कि वह हर पेड़ के अधिकतम स्थान पर कब्जा कर लें। मुख्य रूप से छोटी और ऊपर की ओर उठी हुई शाखाओं को पसंद किया जाता है, क्योंकि वह आसानी से नहीं झुकतीं और सीजन में बाद में फल को तेज धूप और गर्मी के सामने लातीं हैं.

 

About The Author
Mahadhan SMARTEK