गन्ना खेती युक्तियाँ

गन्ने की फसल उष्णकटिबंधीय गर्म धूप वाले क्षेत्रों में सबसे अच्छी होती है। गन्ने के लिए आदर्श जलवायु उच्च सौर विकिरण व्यापकता और मिट्टी में पर्याप्त नमी वाला एक लंबा, गर्म मौसम है। उच्च वर्षा और/या अच्छी सिंचाई वाले क्षेत्र गन्ने की खेती के लिए सबसे उपयुक्त हैं।

गन्ना रेतली मिट्टी से लेकर दुमट मिट्टी और भारी मिट्टी तक के विविध मिट्टी के प्रकारों पर सफलतापूर्वक उपजाया जा सकता है। हालाँकि, एक अच्छी तरह से सूखी, गहरी, दुमट मिट्टी गन्ने की खेती के लिए आदर्श मानी जाती है।

इष्टतम मिट्टी की जुताई प्राप्त करने और हलरेखाएँ और मेड़ें तैयार करने के लिए भिन्न-भिन्न ट्रैक्टर चालित औजारों का उपयोग करके मिट्टी की जुताई की जाए।

युग्म पंक्ति रोपण के अंतर्गत, एक एकड़ भूमि के रोपण के लिए, 24,000 (2-कोंपल वाली कलमों) या 16,000 (3-कोंपल वाली कलमों) की आवश्यकता होती है। मिट्टी की बनावट पर निर्भर करते हुए पंक्ति से पंक्ति का अंतराल 90 सेंटीमिटर से 120 सेंटीमिटर तक भिन्न होता है।

हल रेखाओं में मिट्टी को चलाने और खरपतवार को हटाने के लिए किसानों द्वारा नियमित इंटरकल्चरल संचालन किए जाते हैं। फसल की पंक्तियों के सामने आंशिक मिट्टी की ढेरी लगाना (हिलिंग अप) तब किया जाता है जब गन्ने की फसल 3-4 महीने की उम्र में तेजी से बढ़ना शुरू करती है। कीटों की बीमारियों के हमले से बचने के लिए पुराने पत्ते निकाल दिए जाते हैं। जैसे-जैसे गन्ने पढ़ने लगते हैं, तो उन्हें गिरने से रोकने के लिए गन्ने के पौधों को बाँधा भी जाता है।

गन्ने को इसकी पोषण संबंधी आवश्यकताओं के संबंध में विशेष ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है। बेहतर फसल विकास और चीनी की वसूली के साथ उच्च पैदावार के लिए किसानों को वृहत, माध्यमिक, और सूक्ष्म पोषक तत्वों को आवश्यक मात्रा में प्रयोग करना चाहिए। नाइट्रोजन, फॉस्फोरस, पोटाशियम, सल्फर, मैग्नीशियम, आयरन, जिंक और बोरान की कमियाँ प्रायः गन्ना वृक्षारोपण में रिपोर्ट की जाती हैं। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि इन पोषक तत्वों की उचित समय पर सही उर्वरकों के अनुप्रयोग के माध्यम से यथोचित रूप से आपूर्ति की जाती है।

मिट्टी में अनुप्रयोगों के लिए उर्वरक अनुशंसा (तालिका 1):

गन्ना - मिट्टी में अनुप्रयोगों के लिए उर्वरक अनुशंसा

 

फर्टिगेशन अनुसूची (तालिका 2):

गन्ना - फर्टिगेशन अनुसूची

 

गन्ना - फर्टिगेशन अनुसूची 2

उर्वरक उत्पादों का अनुशंसित पत्तियों पर (फॉलियर) अनुप्रयोग (तालिका 3):

 गन्ना - उर्वरक उत्पादों का अनुशंसित पत्तियों पर (फॉलियर) अनुप्रयोग

गन्ने की फसल को विभिन्न चरणों में नियमित सिंचाई की आवश्यकता होती है। प्रारंभिक चरण में कम अंतरालों पर पानी की 2 से 3 सेंटीमीटर गहराई वाला उथला गीलापन प्रदान करें। कल्ले निकलने, मुख्य वृद्धि और परिपक्वता के बाद के चरणों के दौरान, सिंचाई के अंतराल प्रारंभिक अवस्था में दिए गए की तुलना में थोड़े लंबे (8-10 दिन) हो सकते हैं।

उर्वरक पोषक तत्व विलयनों के साथ ड्रिप प्रणाली के माध्यम से गन्ने की फसल की सिंचाई (फर्टिगेशन) को अपनाया जा सकता है ताकि फसलों की पानी की और साथ ही फसल की पोषण की आवश्यकताओं को साथ-साथ बेहतर ढंग से पूरा किया जा सके।

खरपतवार

गन्ने की फसल, विशेष रूप से फसल के विकास के प्रारंभिक चरणों में, हल रेखा क्षेत्रों में खरपतवार से भी ग्रस्त होती है। गन्ने की फसल में अधिकांश उच्च भूमि खरपतवार देखी जाती है।

खरपतवार प्रबंधन

  • रोपण के बाद 30, 60 और 90 दिनों में किसी कुदाल से मेड़ों की खुदाई सहित नियमित इंटरकल्चरल कार्य
  • शाकनाशी एट्राज़िन 0.8 किग्रा/एकड़ या ऑक्सिफ्लुरोफेन 300 मिलीग्राम/एकड़ का 600 लीटर पानी में मिला कर रोपण के तीसरे दिन बीजांकुर-पूर्व शाकनाशी के रूप में छिड़काव
  • 600 लीटर पानी में 2% अमोनियम सल्फेट या 2,4-डी सोडियम लवण 1 किलोग्राम/एकड़ के साथ ग्लायफोसेट @ 1 लीटर/एकड़ मिला कर बीजांकुर-पश्चात् निर्देशित छोड़काव अनुप्रयोग
  • यदि परजीवी खरपतवार स्ट्रिगा एक समस्या है, तो 500 लीटर पानी/हैक्टेयर में 2,4-डी सोडियम लवण @ किलोग्राम/हैक्टेयर के बीजांकुर-पश्चात् अनुप्रयोग किया जा सकता है।

  1. प्रारंभिक फुनगी वेधक (अर्ली शूट बोरर) का प्रबधन
    • प्रतिरोधी किस्मों और ढैंचा के साथ गन्ने की इंटरक्रॉपिंग का उपयोग करें
    • मेड़ों की लंबाई में 10 -15 सेमी की मोटाई की गीले घास-पत्तों को पलवारना
    • पूर्णतः मृत पौधों को हटाना और नष्ट करना। फेरोमोन जाल @ 10 संख्या/हैक्टेयर स्थापित करें
    • कीटनाशक कार्बोरिल + सेविडॉल 4% जी 12.5 किलोग्राम/हैक्टेयर, कार्बोफुरोन 3जी 33 किलोग्राम/हैक्टेयर का मिट्टी में अनुप्रयोग या क्लोरोपायरीफॉस 1000 मिलीग्राम/हैक्टेयर का छिड़काव।
  2. सफेद डिंभी (व्हाइट ग्रब) का प्रबंधन:
    • पर्याप्त सिंचाई प्रदान करें।
    • फसल कटाई के तुरंत बाद गहरी जुताई
    • खेत में 24 घंटों तक ठहरा हुआ पानी मिट्टी से सफेद डिंभी (व्हाइट ग्रब) को बाहर निकलने का कारण बनता है।
    • वयस्क गुबरैले को संग्रह और नष्ट करना
  3. गन्ना चेंपा (शुगरकेन होल्ली एफिड्) का प्रबंधन
    • रोपण की युग्मित पंक्ति प्रणाली।
    • पंक्तियों के सभी गन्नों को खड़खड़ाना।
    • रोपण से पहले बीज कलम को क्लोरपायरिपॉस 20ईसी विलयन (2 मिलीलीटर/लीटर) में डुबोएँ।
    • फोरेट 10जी @ 5 किलोग्राम/एकड़ का मिट्टी में अनुप्रयोग या एसेफेट 75एसपी @ 1 ग्राम/लीटर या क्लोरपायरिपॉस 20ईसी @ 2 मिलीलीटर/लीटर या ऑक्सीडीमेटॉन मिथाइल 25ईसी @ 1.3 मिलीलीटर/लीटर का छिड़काव

कवक, जीवाणु और वायरस गन्ने की फसल में रोग पैदा करते हैं। गन्ने की फसल के कुछ रोग और उनके सुझाव दिए गए नियंत्रण उपाय नीचे सूचीबद्ध किए जाते हैं।

  1. लाल सड़न का प्रबंधन
    • बीज-कलमों को 2-3 मिनट तक एगालोल या अरेटैन के 0.25% विलयन में डुबोएँ
    • संक्रमित पौधों को जड़ से उखाड़ें और जला दें
  2. कंडुवा का प्रबंधन
    • प्रतिरोधी किस्मों की बुवाई।
    • पौधे के शीर्ष को इस तरह से सावधानी से काटें कि बीजाणु न फैलें और उखाड़े गए संक्रमित पोधे के साथ इसे जला दें।
  3. मुरझाने का प्रबंधन
    • प्रतिरोधी किस्मों की बुवाई।
    • संक्रमित पौधों को जड़ से उखाड़ना और उन्हें जला देना

  • शुरुआती किस्मों को 10 से 11 महीने की उम्र में काटा जाना है
  • मध्य-मौसम की किस्मों में 11 से 12 महीने की उम्र में।
  • अधिकतम परिपक्वता पर गन्ने की फसल काटें।
  • पौध और पेड़ी दोनों फसलों के लिए जमीन के स्तर तक गन्ने को काटें।

Mahadhan SMARTEK
One stop solution
for all
farming needs
Download Mahadhan App