कपास की फसल लगाने के तरीके

कपास की फसल लगाने के तरीके
June 15, 2018 No Comments Blog admin

Mahadhan

उच्‍च पैदावार वाली कपास की फसल उगाने का प्रयास प्रबंधन योजना से शुरू होता है। पौधों को सही अन्‍तर पर लगाकर उनकी संख्‍या को जमीन,पानी की सुविधा और कपास की प्रजाति के अनुसार उचित रखने से खेतों में पैदावार को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

वर्षा आधारित कपास के बीजों को लगाने के बीच की दूरी: एक कतार से दूसरी कतार के बीच 4 फीट का फासला और पौधों से पौधों के बीच 1.5 फीट का फासला रहने से प्रति एकड़ 7407 पौधों की संख्‍या होती है।

लंबाई में बढ़ने वाली किस्‍में: एक कतार से दूसरी कतार के बीच 5 फीट का फासला और पौधों से पौधों के बीच 1 फीट का फासला होने से प्रति एकड़ 8888 पौधों की संख्‍या होती है।

फैलने वाली कपास: एक कतार से दूसरी कतार के बीच 5 फीट का फासला और एक पौधे से दूसरे पौधे के बीच 1.5 फीट का फासला रहने से प्रति एकड़ 5925 पौधों की संख्‍या होगी।

ड्रिप सिंचन के लिए कपास की द्विकतार पद्धति

  • मध्‍यम प्रकार की मिट्टी में एक कतार से दूसरी कतार के बीच की दूरी 2.5 फीट और पौधों से पौधों के बीच की दूरी 1.25 फीट।
  • भारी मिट्टी के लिये एक कतार से दूसरी कतार के बीच की दूरी 2 फीट और पौधों से पौधों के बीच की दूरी 1.25 फीट।

 
कपास में द्विकतार लागण करने के फायदे:

  • द्विकतार लागण पद्धति से कपास के पौधों को भरपूर सूर्यप्रकाश मिल जाता है।
  • द्विकतार लागण पद्धति से पौधों की अत्‍यधिक वृद्धि होने से बचाव होता है।
  • द्विकतार पद्धति से जमीन में दीर्घकाल तक आर्द्रता (नमी) बनी रहती है।

 

 

 

About The Author
Translate »
Mahadhan SMARTEK